halloween horror stories

3 Short Real Halloween Stories- Horror Story Hindi

3 Short Real Halloween Stories : हेलोवीन की तीन सच्ची डरावनी कहानियाँ
Halloween horror Stories
हैल्लो पाठको ,आज आपके लिए पेश है ,हेलोवीन की तीन सच्ची डरावनी कहानियाँ।
1.The abandoned factory(वीरान फैक्ट्री)

सन 2002 की बात है। 4 लड़कियाँ हेलोवीन पार्टी कर अपने घर लौट रही थी। वे सभी एक पुरानी बंद पड़ी फैक्ट्री वाले रास्ते से जा रही थी, जो कि पास ही के एक खेत के बगल में थी। उस फ़ैक्टरी को भूतिया फैक्ट्री कहा जाता था और बहुत से लोगों ने तो उस फैक्ट्री के आसपास रहने से भी मना कर दिया था। जब वे सभी उस खेत के बीचो-बीच पहुंची तो उनमें से एक लड़की ने उस फैक्ट्री को एक्स्प्लोर करने की बात कही। यह सुनकर बाकी सभी लड़कियां डर गई। पर बाद में उनमें से एक ने हा किया। कि वो यह करेगी ताकि वह स्कूल में सभी को यह बात बता सके। उनमें से दो लड़कियाँ फैंस पर चढ़कर उस फैक्ट्री में चली गई, बाकी दोनों बाहर उनका इंतजार करने लगी।

 कुछ 20 मिनट के बाद उन दोनों लड़कियों को उनकी चिंता होने लगी, क्योंकि वे दोनों अब तक उस फैक्ट्री बाहर नहीं आई थी। अचानक से उन्हें खून को जमा देने वाले एक चीख सुनाई दी जो कि उस फैक्ट्री के अंदर से आ रही थी।

 यह आवाज़ उनकी फ्रेंड्स की थी। वे दोनों डर कर अपने घर की ओर भाग गई। वे जो दो लड़कियाँ फैक्ट्री में गई थी ,उन्हें फिर कभी नहीं देखा गया। वह फैक्ट्री आज भी वही खड़ी है और लोग आज भी उस फैक्ट्री में जाने से डरते हैं।

2.The bus driver (बस ड्राइवर)

 सन 2003 की हेलोवीन की काली रात थी। एक बस ड्राइवर एक अँधेरी और खाली गली में बस चला रहा था। तभी उसे रोड के एक ओर एक खूबसूरत लड़की खड़ी दिखाई दी। उसने बस को रोका और वह बस में चढ़ गयी। वह बस में पीछे जाकर बैठ गई और सामने की ओर देखने लगी। जब बस ड्राइवर ने मिरर में देखा तो उसने पाया कि वह लड़की बिना अपनी पलक  झपकाये उसकी ओर ही देख रही थी। पर जब उसने अपने कंधे की ओर देखा तो उसने देखा कि वह औरत उसकी ओर अपनी पीठ किए हुए बैठी थी। ड्राइवर को अब डर लग रहा था।

वह नहीं समझ पा रहा था कि क्या चल रहा है? और जब वह आखरी स्टॉप पर पहुंचा तो उसने दरवाज़ा खोला, पर वह औरत नीचे नहीं उतरी। वह उस जगह पर उस ड्राइवर की ओर अपनी पीठ किए हुए बैठी थी…. “बिल्कुल मोशनलेस “वह ड्राइवर बस के पीछे की ओर जाता है और देखता है कि उस औरत ने अपने हाथों से अपना मुंह ढक रखा था। उसने उससे बात करने की कोशिश की ,पर उसने उसका कोई जवाब नहीं दिया।उस बस ड्राइवर ने उसका चेहरा देखने का प्रयास किया ,पर उस औरत ने उसको ऐसा करने से मना कर दिया। फाइनली उसने कहा” मुझे देखकर तुम्हें खुशी नहीं होगी “और ऐसा कह कर उसने अपने हाथों को अपने मुंह से उठाया और उसकी ओर मुड़ी।

उसका चेहरा बहुत ही भयानक और बिगड़ा हुआ था। उसके चेहरे से मांस के लोथड़े लटक रहे थे और उनमें से चेहरे की हड्डियाँ साफ दिखाई दे रही थी। ऐसा कहा जाता है कि उन्हें वह बस ड्राइवर बस के बाहर बेहोश पड़ा मिला था। वह दो हफ्तों तक कोमा में रहा और जब उठा तो वह अपना आपा खो चुका था। उन लोगों ने उसे एक मेंटल इंस्टिट्यूशन में डाल दिया और यह कहानी उसने उसी मेंटल इंस्टिट्यूशन के अंदर बताई थी।  

 3.Cemetery  garlands ( कब्रिस्तान की मालाये )

सन 2004 की हेलोवीन नाइट थी। एक छोटे बच्चे को उसका बड़ा भाई और उसके स्कूल के कुछ दोस्त एक चैलेंज देते हैं कि तुम आधी रात में कब्रिस्तान में अपने साथ कुछ मालाये लेकर जाओ और उन मालाओं को प्रत्येक कब्र के ऊपर रखो। यह तुम्हारा चैलेंज है। वह छोटा बच्चा नहीं चाहता था कि वो उसे एक कायर समझे ,इसलिए वह उनका चैलेंज एक्सेप्ट कर लेता है। वह रात अमावस की थी और कब्रिस्तान के अंदर घुप्प अंधेरा था।
कब्रिस्तान का दरवाजा एक चरमराहट की आवाज के साथ खुला और वह लड़का सावधानी के साथ अंदर चला गया। उसने अपनी घड़ी में देखा आधी रात हो रही थी। और यह समय चुड़ैलों और जादूगरनियां का होता है। उसने अपने हाथ में मालाओं को टाइटली पकड़ा और वह कब्रिस्तान के बीच में जाने लगा। वह डर के मारे कांप रहा था ,पर उसने अपने आप को काबू कर रखा था। उसे केवल इस बात का डर था, कि अगर उसने अपना टास्क कंप्लीट नहीं किया तो सभी उस पर हसेंगे।जैसे-जैसे वह कब्रों की ओर बढ़ रहा था ,उसे एक अजीब-सा एहसास हो रहा था। कि जैसे कोई उसे देख रहा है। आखिरकार उसने हर एक कब्र पर माला चढ़ा दी और अपना टास्क कंप्लीट किया।
सारी कब्रों पर मालाये रख दी” माय टास्क इस कंप्लीटेड “उसने खुद से कहा।

 

तभी उसने अपने कंधे पर एक ठंडे हाथ को महसूस किया और एक हिस्स्स……हिस्स्स…. की आवाज़ सुनाई दी..” तुम मेरी कब्र भूल गये।

Writer ©️ Vishal_Suman

यदि आप इन कहानियों को सुनना चाहते है तो आप मेरे YouTube चैनल पर जाये। 


So I hope Guys यह कहानिया आपको अच्छी लगी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *