Mystery Creature Badka

Horror Story Of Mystery Creature Badka- Horror Story Hindi

Horror Story Of Mystery Creature Badka बड़का भूत 

Mystery Creature Badka

यह कहानी मेरे एक अंकल की है ,जिनको एक बार एक तूफानी रात में एक बड़का भूत से सामना हुआ था। 

मेरे चाचा एक दर्जी है। और उनकी दुकान हमारे घर के सामने ही है। वैसे वो तो अब सिलाई नहीं करते। यह  कहानी तब कि है जब वो सिलाई करते थे।  उनकी दुकान पर एक अंकल काम करते थे जिनका नाम जोधराज था वो वहां पार्ट टाईम जॉब करते थे। 


वो अंकल हमारे गाँव के नहीं थे बल्कि वो हमारे ही पास के एक गाँव से आते थे। चूँकि उनका गाँव इतना संपन्न नहीं था और वो हमारे पास ही के जिले में एक विश्वविद्यालय मे पड़ते थे। वह अपने खाली समय मे हमारे ही गांव मे  दर्जी का काम करते थे क्योंकि एक तो उनके गाँव में इतनी अच्छी व्यवस्था नहीं थी अर्थात  नौकरी की और दूसरा इससे वो अपनी पढ़ाई के लिए भी थोड़े पैसे कमा लेते थे।


आप देख रहे है Horror Story Of Mystery Creature Badka बड़का भूत

उनको हमारे गाँव से अपने गाँव जाने में लगभग एक पैतालिस मिनट का समय लगता था और वो अपने गाँव पहुंचने के लिए सड़क से जाते थे।
यह कहानी उन्होने ही मुझे सुनाई थी कि…. 

एक बार हमारे यहाँ बहुत तेज तूफान आया था और उसके साथ रह रहकर बारिश भी हो रही थी। आसमान में बिजली भी कड़क रही थी। उस दिन तूफान थमने का नाम ही नहीं ले रहा था। चूँकि अंकल शाम के समय अपने घर जाते थे पर उस दिन तूफान के कारण उन्होने सोचा कि थोड़ी देर बाद जब यह शांत हो जायेगा तब अपने घर चला जाऊंगा। पर तूफान नहीं रुका। मेरे चाचा उनसे बोले कि जोधराज आज यही रुकजा तूफान बहुत तेज है। आज यही दुकान में सो जा। कल अपने घर चले जाना। 

Mystery Creature Badka


पर उन्होने कहा कि नहीं भाईसाहब में चला जाऊंगा इतना भी तेज नहीं है तूफान और घर मे ममी पापा भी परेशान होंगे। 


चाचा बोले कि ठीक है पर अगर रुकना हो तो रुक जाना।

…. पर जोधराज अंकल अपने घर के लिए निकल गए…. 

आप देख रहे है  Horror Stories In Hindi Creepy Content ब्लॉग पर। 

उनके निकलते ही तूफान और तेज हो गया और बहुत तेज पर रुक रुककर  बरसात  भी हो रही थी। कही दूर जंगल में सियारों की आवाजें आ रही थी। 

अंकल एक स्थान पर जाकर रुके। वहां पर दो रास्ते थे, दोनों ही गाँव को जाते थे। पर सड़क वाला रास्ता थोड़ा लम्बा था लेकिन जंगल वाले रस्ते जल्दी गाँव पहुच जाऊंगा यही सोच कर उन्होने जंगल वाला रास्ता पकड़ लिया। उनके पास एक टार्च थी जो भी मर मरके  ही रोशनी दे रही थी। पर आसमान मे कड़क रही बिजली  के बदोलत ही रास्ता दिखाई दे रहा था। चलते चलते वे यही सोच रहे थे कि आज  रास्ता ख़त्म होने का नाम क्यू नहीं ले रहा है। 


वो चल ही रहे थे कि तभी उन्हें रास्ते मे एक आदमी दिखाई दिया। उन्होने सोचा कि जरूर गाँव मे जा रहा होगा। चले सफर का साथी तो मिला। पूछता हू।

इतना सोचकर वे उसके पीछे जाने लगे। उन्होने गौर किया वह आदमी एक पैर से लंगड़ा के चल रहा था साथ ही मे उसका सर रास्ते के बाई ओर जंगल के पेड़ो की तरफ़ था। और उसकी गर्दन नीचे की ओर झुकी थी। उसके एक विचित्र आदमी कहना ज्यादा अच्छा होगा क्योंकि उसकी हरकतें किसी भी तरीके से सामान्य इंसान से नहीं मिल रही थी।

यह सब अंकल ने उसके व्यवहार में पाया। अंकल उसके पीछे पीछे चल रहे थे और उसे कड़कती बिजली के माध्यम से ही समझ पा रहे थे। उन्हें जिज्ञासा हुई कि यह आखिर कौन है? शायद गाँव से ही तो नहीं। चल के देखा जाए। उन्होने अपनी टार्च चालू की ताकि उसका चेहरा देख सके। वे जेसे ही उसके पास गए और उससे पलटने को कहा वैसे ही उनकी टार्च बंद हो गयी और एकदम से बिजली कड़क उठी। बिजली की रोशनी में उन्होने उसका चेहरा देखा और एक दम से दूर जा गिरे। उनका शरीर मानो लकवाग्रस्त हो गया हो।
Mystery Creature Badka
उन्होनें देखा कि अब तक जिसे वो गाँव का ही कोई आदमी समझ रहे थे वो एक उनका भ्रम था क्यूँकि यह तो कुछ ओर ही था।

Horror Stories In Hindi में देखने के लिये हमें फॉलो करे। 

उसकी आँखों की जगहें दो बड़े बड़े छेद मानो जेसे किसी ने दोनों आँखो को निकाल के बड़ा सा छेद कर दिया हो। उसका जबड़ा अपनी जगह से अलग होके एक तरफ लटक रहा था। उसमे से दांत साफ़ दिखाई दे रहे थे। पर दाँत भी ऐसे थे कि काट ले तो सारा शरीर का मांस एक पल में निकाल दे।

ये तो एक बड़का है पर यह कैसे यह सब तो बकवासे होती थी पर…
धीरे धीरे वो उनकी तरफ ही बढ़ रहा था। हर पल बिजली कड़कती और वह और उनके पास आ रहा था। अंकल का हाल खराब था। और जीभ हलक मे अटक गयी। वह एक दम ज़ोर से आगे बढ़ता है और अंकल के बिल्कुल पास से आके गायब हो जाता है।

अंकल थोड़ी देर बेसुध इधर उधर देखते रहे और थोडी देर बाद उठे और तेजी से अपने गाँव की तरफ भागे। वो इतना तेज भागे की अपने घर जाके रुके और हाफते हाफते ही बेहोश हो गए।

सुबह जब उनकी आंख खुली तो एकदम से चीखे बड़का बड़का बड़……

( बड़का वे भूत होते है जो जंगल मे रहते है और किसी जोम्बी की तरह चलते है। एक बार कोई इन्हें देखले तो ये उसे जिंदा नहीं छोड़ते है। ये अपने को देखने वाले के शरीर को चीर फाड़ कर रख देते है और उसे हड्डी सहित खा जाते है। )

यह बात उन्होंने मुझे बताई तो मे भी बहुत डर गया था। उसके बाद उन्होंने कभी उस जंगल का रास्ता न चूना और अब वो उस गाँव मे भी नहीं रहते है क्यूँकि उनकी एक बहुत अच्छी जॉब  लग गयी।
उस दिन जोधराज अंकल कैसे जिंदा बचे ये तो वो भी नहीं जानते है पर शायद उन्हे उनके कुल देवता ने बचाया है। क्यूंकि वे हमेशा ही अपने पास उनकी माला रखते है। 

ऐसी अनेको हॉरर स्टोरीज पढ़ने के लिए फॉलो करे और कमेंट में बताये कि आपको किस तरह की कहानिया पढ़ना पसंद है। हम उन टॉपिक्स पर कहानिया लाएंगे। 


So I hope Guys आपको यह Horror Stories अच्छी लगी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *