आदमखोर भूत की कहानी Aadamkhor Bhoot ki kahani

कहानी की शुरुवात करने से पहले आपको यह बात बता देना चाहता हूँ कि जिस आदमख़ोर भूत की कहानी में आपको बताने जा रहा हूँ, उसको बारे में हमारे गाँव के लोगों का मानना है।

मेरा उस भूत से कभी सामना नहीं हुआ और अगर सामना होता तो आज मैं इस कहानी को बताने के लिए जिन्दा नहीं होता।


दोस्तों, मेरी सहायता करे। आप Amazon Prime Video का Free Sign Up करे, मेरी दी गई Link से। अगर आप Horror Movies देखना पसंद करते है तो आप Sign Up कर सकते है। यह Sign Up बिलकुल Free है।

Sign Up Link


लोग कहते है कि वो भूत घने जंगल में रहता है और रात को जानवरों का शिकार करता है। कई बार तो लोगों ने अजीबोगरीब तरह की आवाजे भी सुनी है उस जंगल से।

आप यह कहानी भी पढ़ सकते है काली चुड़ैल, खेत में चुड़ैल

कोई भी उस जंगल के आसपास नहीं जाता और लकड़ियाँ काटने वाले तो पास के गाँव वाले जंगल में चले जायेंगे पर उस जंगल से लकड़ी लाने का भी नहीं सोचेंगे।

लोग कहते है कि बहुत से लोग उस जंगल में खो चुके है और जो भी खोये है, लौट कर वापिस कभी नहीं आये है। क्योंकि एक तो वो जंगल काफी घना है और दूसरा वो आदमख़ोर भूत तो इंसान दिखते ही उसे पल भर में मार दे। ऐसे में, किसी का भी उस जंगल से बच निकलना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है।

गाँव वाले, एक कहानी के बारे में बताते है कि एक बार उस भूत की मुठभेड़ हुई थी कुछ लोगों से। दरअसल, हुआ कुछ यूँ था कि कुछ गाँव वाले जा रहे थे अपने घरों की ओर एक बैलगाड़ी में बैठकर पर तभी ही उनके बैल एक जग़ह रुक गये और आगे जाने से साफ़ इंकार करने लगे।

आप यह कहानी भी पढ़ सकते है कबाड़ी वाला

ऐसे में, उन सभी ने सोचा की इनको क्या हो गया है?

उस समय, वे कुल पाँच लोग थे और सभी के सभी बैलगाड़ी के ऊपर बैठे थे।

तभी उन्होंने जंगल में से किसी के चिल्लाने की आवाज सुनी यह सुनकर वे पाँच और वो दो बैल काफी डर गये, उन्हें पता चल गया था कि ये वहीं आदमखोर भूत है और इसकी कहानी सच्ची है।

आप यह कहानी भी पढ़ सकते है छलावा भूत की कहानी

पर वे लोग जंगल में नहीं थे बल्कि वो तो जंगल से कुछ 200 मीटर जितनी दुरी पर एक कच्ची पगडण्डी से यात्रा कर रहे थे।

तभी एक आदमी ने जोर से बेलों की पीठ पर रस्सी को मारा जिससे वो बैल तेजी से वहां से भागने लगे और गाँव में पहुँचने के बाद ही सभी लोगों को चैन की राहत मिली।

वे सभी जंगल के बाहर थे और इसलिये बच गये थे। यह कहानी कुछ 50 से 55 साल पुरानी है और शायद अब कोई उस जंगल में जाने से नहीं डरता क्यूँकि बहुत से लोग उस जंगल में जाकर आ गये है, पर वे सभी केवल दिन के समय गये थे न कि रात में।

अभी भी रात में उस जंगल में कोई नहीं जाता।

तो दोस्तों यह थी एक गाँव के एक आदमखोर भूत की कहानी। आपको यह कहानी कैसी लगी कमेंट करके बताये।

आप यह कहानी भी पढ़ सकते है बावड़ी का खूँखार प्रेत

Leave a Comment