Ek Raat Horror Story

Ek Raat- Horror Story In Hindi

Ek Raat- Horror Story In Hindi

यह कहानी एक आदमी की कल्पना पर आधारित है ,इसमें एक आदमी होता है जो सही से सो नहीं पा रहा होता है। जिस कारण से वो एक ऐसी कल्पना के चक्कर में फंस जाता है ,जो उसको वास्तविकता से परे कर देती है और फिर उस दुनिआ (जिसमें उस आदमी की कल्पना चलती है ) से कोई तो आता है। 

Ek Raat Horror Story

एक रात आप अपने पलंग पर बैठे हो।

आपको नींद नहीं आ रही हो और आप अब पलंग से उठकर के अपने पैर जमीन पर रखकर पलंग पर बैठ चुके हो। 

आप अपने मन में कुछ सोच रहे हो।
कि मुझे रोज़ तो जल्दी नींद आ जाती है और आज क्या बात है कि नींद ही नहीं आ रही है।
आपको रात में अपने कमरे की लाइट्स बंद करके सोना पसंद है और आप पलंग पर बैठे हुये ही घड़ी की और देख रहे है। पर अँधेरे की वजह से समय कितना हुआ है, इस बात का पता नहीं चल पा रहा है।

अँधेरे में आपको केवल घड़ी के टिक टीक करने की आवाज़ सुनाई दे रही है।
आप अब खुद पर गुस्सा करने लगे ही कि क्यों मुझे नींद नहीं आ रही है? , मुझे कल जल्दी उठना है।
पर कोई फायदा नहीं, आपको बिलकुल नींद नहीं आ रही है।

अब आप अपने पलंग से उठकर अपने कमरे की खिड़की की और जाते है।

खिड़की खोलकर आप बाहर की और देख रहे है।Ek Raat- Horror Story In Hindi
आज पूर्णिमा की रात है।
चाँद  की रोशनी कम है।…क्यूंकि बादल चाँद को घेरे रखे है।….
बाहर का मौसम ठंडा है।

बाहर झींगुरो की आवाज़ आ रही है….
आपके कमरे की खिड़की के सामने एक स्ट्रीट लाइट जल रही है… जिसका प्रकाश आसपास के एक छोटे से क्षेत्र को घेरे हुए है…
बाहर हवा चल रही है, ठंडी हवा जो आपके शरीर को सुई की तरह स्पर्श कर रही है….
मौसम सर्दी का है….
चारों तरफ अँधेरे, बहती हुयी ठंडी हवा और झींगुरो की आवाज़ के सिवा कुछ नहीं है….धीरे धीरे आप आसपास के माहौल को समझ पा रहे है…

Ek Raat Horror Story

अब माहौल में कोई और भी आ रहा है, जिसे आप साफ तौर से महसूस कर पा रहे है….

आपको किसी के क़दमों की आवाज़ सुनाई दे रही है पर यह आवाज़ बहुत धीमी है…..
कौन हो सकता है वहाँ? आपके अन्तर्मन में यह सवाल उठ रहा है….
अब आप अपनी नजरों को चारों ओर के माहौल में घुमा कर उस आने वाले को देखने का प्रयास कर रहे है….

पर आपको नहीं पता कि वह आने वाला किस ओर है?…
धीरे धीरे ठंड बढ़ने लगी है….ठंड के कारण आप खिड़की को बंद करने जाते है कि तभी आपकी नज़र स्ट्रीट लाइट के पास के एक कोने की तरफ जाती है…
हवा और भी तेज़ हो गयी है…
झींगुरो की आवाज़ बंद हो गयी है…..
उस कोने के पास में कोई तो  खड़ा है, पर कौन है वो?
…सवाल….. आपके अंदर उठ रहा है….
उस जगह तक स्ट्रीट लाइट का प्रकाश नहीं पहुँच पा रहा है…. 

आप बेसब्र है कि आखिर कौन हो सकता है वो?….Ek Raat- Horror Story In Hindi
आपकी नज़र स्ट्रीट लाइट की और जाती है, जो अब जल बुझ रही है….
धीरे धीरे स्ट्रीट लाइट पूरी तरीके से बंद पड़ जाती है…
चारों ओर घुप्प अँधेरा….
पर आप किसी के धीरे धीरे चलने की आवाज़ को सुन  सकते है…..
बादल के हटते ही प्रकाश फेल जाता है,  पर आपकी नजरें तो एक 8 फुट लम्बे आदमी की ओर गढ़ चुकी है….. वो आदमी स्ट्रीट लाइट के ठीक नीचे खड़ा आपको देख रहा है… क्या है यह?…. आपके मन में आया हुआ सवाल…. 

Ek Raat Horror Story

वो आपको देख के एक बड़ी ही भयानक सी मुस्कान देता है…. जिसका पता आपको उसके मुँह को देखकर पता चलता है…..जो बहुत ही ज्यादा खुला हुआ है… . उसकी मुस्कान किसी को भी डराने के लिए पर्याप्त है…..पर जैसे ही आप उसकी आँखों में देखते है तो आपको केवल अँधेरे के सिवा कुछ नहीं दिखता…..

आप अब उसको ज्यादा देर तक नहीं देख सकते क्योंकि आपका दिल बहुत तेजी से धड़क रहा है जिसका कारण वो डरावना शख्श है….
आप केवल आखिरी बार उसकी ओर देखते है पर ठीक उसी वक्त उसका मुँह खुलता है जिसके अंदर खूब सारे नुकीले दाँत है……वो समझ चूका है कि आप उससे पूरी तरह से डर चुके है….. अब वह आपकी ओर बढ़ता है….. उसका मुँह अभी भी खुल रहा है जो केवल आपके लिए…..
अब आप समझ गये कि वह आपको खाने आ रहा है…
आप के पैर जम गये है और आप हिल भी नहीं पा रहे है….
आपका दिल इतना तेजी से धड़क रहा है कि बस अब किसी भी वक्त यह अपनी चरम सीमा पर पहुँच जायेगा.. मतलब कि अब यह रुकने वाला है…
आप एक आखिरी बार उस सख्श उसकी और देखते है…….
और……………. फ़िर

.
.

..
….
….
……..
…..
आप तेजी से अपनी खिड़की बंद कर लेते है और अपनी पलंग की रजाई में जाकर छुपने का प्रयास करते है….
है भगवान कौन है ये?….
नरक से भी डरावना………..
आपकी खिड़की पर खटखटाने की आवाज़ आ रही है जो बेशक़ हवा की नहीं बल्कि उसी की है….
आप अब किसी भी वक्त मर सकते है, ऐसा आपके मन में उठ रहे कई सारे खौफनाक ख्याल है……


….
……
……
धीरे…. धीरे….

…. आपको नींद आ जाती है…..Ek Raat- Horror Story In Hindi

अगली सुबह जब आपकी आँख खुलती है तो आप अपने आसपास देखते है। पर देखने से ऐसा नहीं लगता कि आप सच में अब वास्तविक दुनिआ में हो। कोई तो है जो आपको उठा कर अपने साथ ले जा रहा है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *