“Skinwalker At My Camp” Skinwalker Ghost Stories in Hindi

Skinwalker Ghost Stories in Hindi. एक ऐसी कहानी को दर्शाता है जिसमें चार लोगों का सामना एक भयानक Monster, Skinwalker से होता है, जब वे Camping के लिए एक जंगल में जाते है।

मेरा नाम गिरीश है और मुझे लोग प्यार से गिरी बुलाते है। मुझे बचपन से Western Movies देखने का काफी शौक रहा है और मैं कई Western Horror Movies देख चूका हूँ। सबसे ज्यादा पसंदीदा Movies में, मुझे Skinwalker की Films देखना काफी पसंद है।


दोस्तों, मेरी सहायता करे। आप Amazon Prime Video का Free Sign Up करे, मेरी दी गई Link से। अगर आप Horror Movies देखना पसंद करते है तो आप Sign Up कर सकते है। यह Sign Up बिलकुल Free है।

Sign Up Link


मुझे Skinwalker से Related हर तरह की चीजें जैसे कि Skinwalker Movies, Skinwalker Stories और True Ghost Stories Of Skinwalker काफी पसंद आती है। अमेरिका में Skinwalker काफी Famous Horror Monster है। इसे Navajo Culture में “Yee Naaldlooshii” कहा जाता है। यह बहुत ही खतरनाक Monster होता है। अगर बात कि जाये हमारे भारत की तो हम Skinwalker को छलावा (Chalawa) से काफी अच्छी तरह से समझ सकते है।

Skinwalker क्या है? जाने।

जैसे Chalawa अपना रूप बदलता है वैसे ही Skinwalker भी अपना रूप बदलकर लोगों का शिकार करता है।

खैर, अब मैं आपको अपनी सच्ची भूतिया कहानी बताता हूँ।

यह बात उस समय की है, जब मैं 14 साल का था। मुझे Fishing सीखनी थी। तो मैंने अपने बड़े भाई से कहा कि वो मुझे Fishing करना सिखाये। वो मुझसे 3 साल बड़ा था। वो बोला कि ठीक है! हम इस Sunday, Camping पर चलते है। मेरे भाई ने 3 दिन तक की Camping की Trip की योजना बनाई। मैं बहुत खुश था क्योंकि एक तो मैं Fishing करना सीख लूँगा और दूसरा मुझे Camping पर जाने का मौका मिला था।

रविवार के दिन मैंने और मेरे भाई ने Camping का सारा सामान इकट्ठा किया और हम मेरे भाई की कार में बैठकर हमारे गाँव की पास की पहाड़ियों की तरफ निकल गये। रास्ते में, मेरे भाई के दो दोस्त भी कार में बैठ गये थे। क्योंकि वो भी हमारी Camping का हिस्सा होने वाले थे।

कुछ डेढ़ घंटे में, हम चारों उन पहाड़ियों तक पहुँच गये थे।

आप देख रहे है Skinwalker Ghost Stories In Hindi.

वो जगह काफी सुन्दर थी। चूँकि, वह समय सर्दियों की शुरुवात का था तो हल्की-हल्की सी ठण्ड भी पड़ रही थी। वैसे Camping के लिए सर्दियों का मौसम सही होता है क्योंकि भारत में बाकी समय काफी गर्मी पड़ती है तो सारा मजा किरकिरा पड़ जाता है।

चारों तरफ घने पेड़ और पौधे थे। उस जगह एक नदी थी जिसमें हम Fishing करने वाले थे।

हम सबने मिलकर कुल दो टेंट लगाये। पहले टेंट में, मैं और मेरा भाई रहने वाले थे और दूसरे टेंट में उसके दोनों दोस्त।

हम सबने आग जलाने के लिए सुखी लकड़ियाँ जमा की। जो हमें बड़ी ही आसानी से उस जगह मिल गयी थी। हमने हमारे टेंट के पास में ही Campfire को Setup किया।

हम सभी ने मिलकर उस दिन फिश-राइस (Fish-Rice) बनाने की योजना बनाई थी। Rice तो हम अपने साथ घर से ही लाये थे बाकी मछलियाँ तो हम उस नदी से पकड़ने वाले थे। हमने आग में चावलों को उबलने के लिए रख दिया था और हम सभी नदी के किनारे मछलियाँ पकड़ने के लिये बैठ गये।

मेरे भाई के दोस्त तो Fishing कर रहे थे और मेरा भाई मुझे Fishing करना सिखा रहा था। मछलियाँ पकड़ना आसान काम नहीं था।

आधे घण्टे तक, हमें कोई मछली नहीं मिली। थोड़ी देर और बैठने के बाद, मैंने पानी में किसी चीज़ को महसूस किया। मुझे लगा शायद वो कोई मछली होगी। पर वो जो कोई भी चीज़ थी, आकार में काफी बड़ी थी। मतलब यह थोड़ा अजीब था, क्योंकि वह नदी ज्यादा बड़ी नहीं थी और न ही ज्यादा गहरी। फिर, वो इतनी बड़ी चीज़ उस नदी में क्या थी?

मैं जोर से चिल्लाया, “वो देखो, पानी में वो क्या इतनी बड़ी चीज़ है?”

मेरा इतना कहते ही सभी पानी में देखने लगे पर पानी में कुछ भी नहीं था। मेरे भाई ने हँसते हुवे कहा कि पानी में मछली इतनी आसानी से नहीं मिलती है। वो तीनों हँसने लगे और मुझसे बोले कि शायद! तुमने कोई सपना देखा है। मुझे भी लगा कि हा, शायद यह सपना ही है।

मेरा भाई हँसते हुवे बोला कि मैं चावलों को देखकर आता हूँ कहीं सारे चावल जल न जाये।

मुझे काफी अजीब लगा। शायद! मैं सही से सोया हुआ नहीं हूँ, इसलिए मुझे भ्रम हो रहा है।

थोड़ी देर बाद, मेरा भाई आया और उसने हम सभी से कहा कि चावल उबल गये है, मछलियाँ मिली के नहीं। सब ने “ना” में सर हिलाया।

वो भी हमारे पास आकर बैठ गया और हमने फिर से, Fishing करना शुरू कर दिया। थोड़ी देर बाद, हमने कुछ मछलियाँ पकड़ी और उन्हें हम Camping के पास ले जाकर भुनने के लिये तैयार करने लगे।

उस समय, शाम भी हो गयी थी, जिस कारण से हमने आग में ज्यादा लकड़ियाँ डाल दी थी ताकि आसपास थोड़ा उजाला हो सके। वैसे तो हम रौशनी के लिए अपने साथ टॉर्च और मोमबत्तियाँ लाये थे पर हम सभी प्रकृति द्वारा प्रदान की गयी चीज़ों के साथ ही रहना चाहते थे।

चावल तो बन गये थे और मछलियाँ भी भुनने के लिए आग के सामने रखी थी। उस समय, हम सभी याने कि हम चारों आग के सामने बैठे हुवे थे। हल्की-हल्की ठण्ड होने के कारन जलती हुए CampFire शरीर को गर्मी प्रदान कर रही थी। आसपास काफी अँधेरा था।

मेरा भाई हमको बताने लगा कि यह जो जगह जहाँ हम अभी Camping कर रहे है, इसके बारे में, लोगों का ऐसा मानना है कि यह जगह शापित है और ऐसा इसलिये है कि यहाँ पर एक ऐसा शैतान घूमता है, जो लोगों को गायब कर देता है। उस शैतान के बारे में लोग कहते है कि यह इस जगह पर लोगों को भ्रम में डालता है और उन्हें अपने साथ कहीं ले जाता है और फिर, वो लोग गायब हो जाते है।  

आप देख रहे है Skinwalker Ghost Stories In Hindi.

यह सुनकर मेरे भाई के दोनों दोस्त हँसने लगे और उनके साथ मेरा भाई भी हँसने लगा।

पर मैं चुप था। इसलिये नहीं कि मैं डर गया था बल्कि मैं थोड़ा थका हुआ था। पर मैंने एक बात गौर की कि जब से हम यहाँ आये है, मुझे किसी न किसी के इस जगह पर होने की आशंका हो रही है। मलतब कि हम यहाँ चार लोग है पर मुझे ऐसा लग रहा है जैसे हमारे अलावा भी यहाँ पर कोई है।

खैर, हम सब ने खाना खाया और हम सभी अपने-अपने टेंट में सोने के लिये चले गये।

रात के समय, कुछ 2 बजे के आसपास, मुझे टॉयलेट जाना था तो मैंने टेंट की चैन खोली और मैं टेंट के बाहर आ गया। हमने जो Campfire जलाई थी वो अब बुझ चुकी थी। मेरे पास टॉर्च थी जिसे मैंने चालू किया और मैं पास में जाके टॉयलेट करने लगा।

मैं जिस जगह पर टॉयलेट कर रहा था वो जगह उस तालाब या छोटी नदी से कुछ ही दूर थी। जब मैं टॉयलेट कर रहा था तो मैंने उस तालाब में हलचल को सुना। जैसे ही वो आवाज मुझे आई थी, मैं उस ओर टॉर्च करके देखने लगा कि आखिर यह आवाज़ कौन कर रहा है?

मैंने देखा कि पानी में कोई तो था जो डूब रहा था और बार-बार अपने हाथ पानी के अंदर-बाहर कर रहा था। मैंने जब टॉर्च को उन हाथों की तरफ़ किया तो मेरी हालत ही ख़राब हो गई थी क्योंकि वो हाथ लग तो किसी इंसान के रहे थे, पर वो बिलकुल भी इंसान के जैसे नहीं थे। वो हाथ आधे जानवर और आधे इंसान की तरह लग रहे थे।

मैं यह देखकर दंग रह गया था। कुछ ही समय में, पानी से आवाजें आना बंद हो गई थी। मैं वहीँ खड़ा होकर सब देख रहा था। मेरी टाँगे एक जगह पर जम गई थी। मैं हिल नहीं पा रहा था। मेरी टॉर्च अभी भी उसी जगह पर थी, जहाँ वो आदमी या जानवर डूब रहा था।

मैंने देखा कि एक हिरन के जैसे दिखने वाला सर उस तालाब से बाहर निकल रहा था। धीरे-धीरे वो बाहर आ रहा था और वो काफी लम्बा था। उसके शरीर पर कोई बाल नहीं था और वो बिलकुल ऐसा लग रहा था, जैसे आधा इंसान और आधा हिरन हो। वो धीरे-धीरे मेरी ओर आने लगा। उसका शरीर काफी लम्बा और चौड़ा था और वो काफी भयानक था।

उसे देखकर मेरी चीख निकल गई और कुछ ही समय में, मेरा भाई और उसके सभी दोस्त भागकर मेरे पास आये। मैं उस जगह पर किसी पुतले की तरह खड़ा था और मेरा शरीर बिलकुल ऐसा हो गया था जैसे कि “काटो तो खून नहीं।”

वो सभी मेरे सामने आकर बोलने लगे कि क्या हुआ? क्या हुआ?

मेरे गले से आवाज तक नहीं निकल रही थी। जैसे-तैसे करके मैंने हिम्मत जुताई और मैं बोला कि वो देखो।

वो तीनो पानी में देखने लगे। हमने देखा कि पानी में हलचल थी पर वहाँ कोई भी नहीं था।

सबने मुझसे कहा कि कुछ भी तो नहीं है वहाँ।

मैंने अपने हाथों का इशारा करते हुवे और टॉर्च की रौशनी करते हुवे उन्हें तालाब के एक बड़े पेड़ के नीचे देखने को कहा।

सबने वहाँ देखा कि एक लम्बा सा आदमी वहाँ खड़ा होकर हमारी तरफ देख रहा था। उसे देखकर सबकी हालत ख़राब हो गई थी क्योंकि किसी ने भी आजतक वैसा कुछ नहीं देखा था। वो थोड़ी देर बाद वहाँ से अचानक से कहीं गायब हो गया था। बस हमने पलक ही झपकाई थी और वो गायब हो गया।

हमने तुरंत Camp की ओर भागे और हमने वहां पर बड़े-बड़े पैरों के निशान देखे। जो किसी इंसान के तो बिलकुल भी नहीं थे। वो पैर काफी बड़े और तीन नाखूनों वाले थे। मतलब कि वो हमारे Camp वाली जगह पर भी आया था। हम सब यह देखकर वहां से तुरंत भागने लगे। हमने जल्दी-जल्दी में सारा सामान उस जगह से उठाया और उसे मेरे भाई की गाड़ी में भरा और हम वहाँ से भाग निकले।

हमें नहीं पता था कि वो जीव क्या था और वहां पर क्या कर रहा था? जब मैंने गाड़ी से पीछे मुड़कर देखा तो मैंने कि एक आदमी जिसकी ऊँचाई तक़रीबन मेरे जितनी थी उसके हाथ में एक टोर्च थी और वो उसे चालू-बंद चालू-बंद कर रहा था।

यह बात किसी ने भी किसी को नहीं बताई। क्योंकि हमें ही इस बात का पता नहीं था कि हमारे साथ आखिर हुआ क्या था?

वो पक्के से एक Skinwalker ही था क्योंकि उसने किसी इंसान का रूप लिया था और वो रूप हम चारों में से ही किसी का था। अगर मैं उस दिन अकेला होता तो शायद जरूर मैं मारा जाता।

यह था मेरा Camping पर हुआ Skinwalker के साथ एक सच्चा वाकिया। ऐसी और भी Skinwalker Ghost Stories In Hindi में सुनने के लिये, हमारे ब्लॉग Horrorstoryhindi.com पर बने रहे। यदि आप YouTube पर Ghost Stories सुनना पसंद करते है तो मेरे YouTube Channel “Creepy Content” को सब्सक्राइब कर ले।

धन्यवाद!

Leave a Comment